ThisisNotConsent

#ThisIsNotConsent: सोशल मीडिया पर महिलाएं क्यों शेयर कर रही हैं अपनी अंडरवियर की तस्वीरें

आयरलैंड में एक अलग तरीके का विरोध चल रहा है. इस विरोध में वहां की महिलाएं सोशल मीडिया पर अपने अंडरवियर की तस्वीरें पोस्ट कर रही हैं. महिलाएं अपने-अपने अंडरवियर की तस्वीरों को ThisIsNotConsent (यह सहमति नहीं है) हैशटैग के साथ ट्वीट कर रही हैं. न्यूज 18 की खबर के अनुसार सिर्फ इतना ही नहीं इसे लेकर देश भर में रैलियों का आयोजन भी किया जा रहा है. हाल ही में वहां की एक महिला नेता ने संसद में काले रंग के अंडरवियर को हवा में उड़ा दिया था.

दरअसल आयरलैंड की सांसद रूथ कॉपिंगर ने सदन में अंडरवियर लहराकर अपना विरोध दर्ज कराया है. ‘पीड़िता को ही दोषी ठहराने’ की मानसिकता का विरोध करने के लिए आयरलैंड की महिला सांसद रूथ कॉपिंगर सदन में नीले रंग का थॉन्ग (लेस वाला अंडरवियर) लेकर पहुंची थीं. उन्होंने ट्रायल के दौरान कोर्ट में पीड़िता का अंडरवियर दिखाए जाने का तीखा विरोध करते हुए कहा, ‘यहां थॉन्ग दिखाना शर्मसार करने वाला हो सकता है लेकिन सोचना होगा कि जब एक महिला के अंडरवियर को कोर्ट में दिखाया गया, तो उसे कैसा लगा होगा.’ वहीं देश भर की महिलाओं की ओर से किया जा रहा यह अनोखा विरोध अब चर्चा का विषय बन गया है.

दरअसल आयरलैंड की सांसद रूथ कॉपिंगर ने सदन में अंडरवियर लहराकर अपना विरोध दर्ज कराया है. ‘पीड़िता को ही दोषी ठहराने’ की मानसिकता का विरोध करने के लिए आयरलैंड की महिला सांसद रूथ कॉपिंगर सदन में नीले रंग का थॉन्ग (लेस वाला अंडरवियर) लेकर पहुंची थीं. उन्होंने ट्रायल के दौरान कोर्ट में पीड़िता का अंडरवियर दिखाए जाने का तीखा विरोध करते हुए कहा, ‘यहां थॉन्ग दिखाना शर्मसार करने वाला हो सकता है लेकिन सोचना होगा कि जब एक महिला के अंडरवियर को कोर्ट में दिखाया गया, तो उसे कैसा लगा होगा.’ वहीं देश भर की महिलाओं की ओर से किया जा रहा यह अनोखा विरोध अब चर्चा का विषय बन गया है.

ये भी पड़ें:  अयोध्या: Google Maps ने विवादित जमीन पर लिखा 'मंदिर यहीं बनेगा', मच गया बवाल

इसी बात को लेकर महिलाएं नाराज हुई हैं. महिला राजनेताएं भी इस घटना का विरोध करने के लिए संसद से लेकर सड़क तक उतर गई हैं. लोगों का कहना है कि क्या कोई महिला अपने मनपंसद का अंडरवियर भी नहीं पहन सकती है. इसके बाद आयरलैंड की महिलाओं ने अपना विरोध दर्ज कराने के लिए अंडरवियर का फोटो सोशल मीडिया पर शेयर करना शुरू कर दिया है.

कार्यकर्ता न्यायिक प्रणाली के उन सदस्यों को भी बाहर करने की मांग कर रहे हैं जो अदालत में पीड़ितों को दोषी ठहराते हैं. आयरिश प्रधानमंत्री लियो वरदकर ने यह भी कहा कि यह मुद्दा देश के लोगों के लिए चिंता का विषय है. इस बात पर विचार किया जा रहा है कि आखिर इन घटनाओं पर किस तरह से लगाम लगाया जाए.

लगातार जुड़े रहने के लिए Follow करे

अपने विचार कमेंट बॉक्स में शेयर करें