Imran Khan say about India after winning elections

पाकिस्तान में चुनाव जीतने के बाद भारत के बारे में क्या बोले इमरान खान

पाकिस्तान के आम चुनाव में 25 जुलाई को 272 में से 270 सीटों पर वोटिंग हुई. वोटिंग के बाद ही काउंटिंग शुरू हो गई और देर रात से रुझान आने शुरू हो गए. कयास लगाए जा रहे थे कि क्रिकेटर रहे इमरान ख़ान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी, क्योंकि उसे सेना का समर्थन प्राप्त है. कयास सही साबित हुए. इमरान की पार्टी ने सबसे ज़्यादा सीटें जीतीं, लेकिन किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला.

देखिए पाकिस्तान आम चुनाव के क्या नतीजे रहे:

PTI (इमरान ख़ान)- 116
PML-N (नवाज शरीफ)- 58
PPPP (बिलावल भुट्टो)-39
Others- 65

इस चुनाव में कुछ चौंकाने वाले नतीजे भी सामने आए. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी चुनाव हार गए. नवाज़ शरीफ के जेल जाने के बाद उनकी पार्टी की कमान संभालने वाले उनके भाई शाहबाज़ शरीफ भी चुनाव हार गए. बेनजीर भुट्टो के बेटे बिलावल भुट्टो भी चुनाव हार गए. आतंकी हाफिज सईद की अल्लाह-ऊ-अकबर पार्टी एक भी सीट नहीं जीत सकी.

नतीजे आने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस करने आए इमरान ख़ान ने कहा कि उनका 22 साल का संघर्ष रंग लाया. लोगों की दुआएं रंग लाई. उन्हें सपनों को पूरा करने और देश की सेवा करने का मौका मिला है. देश का लोकतंत्र मज़बूत करना उनका लक्ष्य है. पाकिस्तान को गरीबी से निकालना पहला लक्ष्य है, इसलिए वो प्रधानमंत्री निवास में नहीं रहेंगे. महल जैसे प्रधानमंत्री आवास को होटल बनाया जाएगा. सभी गवर्नर हाउसेज को होटल में बदला जाएगा और उनसे रेवन्यू जेनरेट किया जाएगा.

इमरान ने कहा कि वो पड़ोसी मुल्कों से अच्छे संबंध चाहते हैं. पड़ोसियों की बात करते हुए उन्होंने सबसे पहले चीन का नाम लिया. उन्होंने कहा कि चीन से अच्छे संबंध रखेंगे और वहां से इन्वेस्टमेंट लाएंगे. चीन से गरीबी और करप्शन हटाना सीखेंगे. फिर अफगानिस्तान के बारे में कहा कि अफगानिस्तान ने सबसे ज्यादा आतंकवाद झेला है. आतंक से सबसे ज्यादा तकलीफ अफगानिस्तान ने ही सही है. अफगानिस्तान के साथ पाकिस्तान के ओपन बॉर्डर्स होने चाहिए. साथ ही, इमरान चाहते हैं कि अमेरिका से अच्छे संबंध हों, क्योंकि अब तक अमेरिका से वन-वे संबंध रहे हैं. अब वो चाहते हैं कि दोतरफा रिलेशन हों. ईरान और सउदी अरब से और अच्छे रिश्ते बनाएंगे. मिडिल ईस्ट की लड़ाई खत्म कराएंगे.

भारत के बारे में बोलते हुए इमरान ने कहा कि हिंदुस्तानी मीडिया ने उन्हें बॉलीवुड के विलेन की तरह दिखाया. हिंदुस्तान में क्रिकेटर होने की वजह से वो सबसे लोकप्रिय पाकिस्तानी हैं. वो भारत के साथ अच्छे संबंधों का पक्षधर हैं. इसके लिए पहले भारत से ट्रेड्स शुरू हों. कश्मीर पर बोलते हुए कहा कि कश्मीर के हालात सुधरने चाहिए. कश्मीर के लोगों से ह्यूमन राइट्स वॉयलेशन हुआ है. जहां भी सेना का राज होता है, वहां ऐसा होता ही है. इसकी वजह से कश्मीरियों ने कष्ट सहा है. इसके लिए दोनों देशों को ब्लेम गेम बंद कर दोनों को मिलकर संबंध बेहतर करने की कोशिश करनी चाहिए. एशिया महाद्वीप के भले के लिए यह दोस्ती ज़रूरी है.

अब देखना ये है कि पाक में सबसे बड़ी पार्टी के नेता इमरान प्रधानमंत्री बनने के बाद क्या ऐसा कर पाएंगे, जिससे पटरी से उतर चुके पाकिस्तान के हालात फिर से सामान्य हो जाएं.

ये भी पढ़ें:

खिलाड़ी की उम्र नहीं उसका टैलेंट देखा जाता है : सचिन तेंडुलकर

लगातार जुड़े रहने के लिए Follow करे
                          
अपने विचार कमेंट बॉक्स में शेयर करें

प्रातिक्रिया दे